वंदे भारत मिशन को लेकर बोले एविएशन मिनिस्टर, बताया कितने भारतीय की होगी घर वापसी

New Delhi: कोरोना वायरस के प्रसार को भारत में फैलने से रोकने के लिए भारत सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन लागू कर रखा है। जिसकी वजह देश में बस ट्रेन और सभी तरह की हवाई यात्रा बंद है। इस लॉकडाउन की वजह से दुनिया कई दूसरे देशों में भारतीय नागरिक फंस गए है, और अपने देश में वापस आना चाहते है। वहीं अब भारत सरकार दूसरे देशों में फंसे अपने नागरिकों की वतन वापसी करने के लिए ‘वंदे भारत मिशन’ की शुरुआत की है। जिसके तहत भारत सरकार 7 मई से लेकर 13 मई के बीच में 64 एयर इंडिया की फ्लाइट को संचालित कर रही है। जिसके साथ ही सरकार अपने कई भारतीय नागरिकों को वतन वापस कर रही है।

हाल ही में देश के सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने सरकार के इस मिशन को अब तक का सबसे बड़ा निकासी प्रोग्राम बताया है। उन्होंने बताया कि पिछले कई दशकों में इस तरह से किसी भी सरकार ने सिविल एविएशन प्रोपर्टी के उपयोग कर संचालन नहीं किया था।

मीडिया से बात करते हुए सिविल एविएशन मिनिस्टर ने कहा “मिनिस्ट्री ने अभी तक केवल हफ्ते के लिए कार्यक्रम बनाया है। इस मिशन के आगे की जानकारी जल्द ही दी जाएगी। सिविल एविएशन प्रोपर्टी का यूज कर किसी सरकार द्वारा किया जा रहा ये मिशन अब तक का सबसे बड़ा मिशन है।”

हरदीप सिंह पुरी ने अपनी बात को पूरा करते हुए कहा कि “हमे पहले उम्मीद थी कि विदेशों में फंसे भारतीयों में से कम से कम 1 लाख 90 हजार लोग वापस आना चाहते है। लेकिन जब हमने ये प्रोग्राम शुरू किया, तो हमे पता चला की लोगों कि ये संख्या कुछ कम है। अभी हमने सिर्फ एक हफ्ते का प्रोग्राम बनाया है, ये प्रोग्राम 7 मई से लेकर 14 मई तक चलने वाला है। इस दौरान हमने 64 फ्लाइट के साथ 12 देशों में फंसे 14, 800 भारतीयो वापस लाने की प्लानिंग की है। लेकिन जैसे ही हम आगे बढ़ेंगे ये नंबर भी बढ़ने लगेंगे।”