हरमनप्रीत कौर के इस एक फैसले के दम पर WPL की चैंपियन बनी मुंबई इंडियंस, दिल्ली कैपिटल्स को दी 7 विकेट से मात
हरमनप्रीत कौर के इस एक फैसले के दम पर WPL की चैंपियन बनी मुंबई इंडियंस, दिल्ली कैपिटल्स को दी 7 विकेट से मात

आज मुंबई इंडियंस और दिल्ली कैपिटल्स के बीच पहले वूमेंस प्रीमियर लीग का फाइनल मुकाबला खेला गया। मुंबई की टीम ने 7 विकेट से ये मैच अपने नाम किया। दिल्ली की टीम ने टॉस जीत पहले बल्लेबाजी का फैसला किया।

टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 131 रन बनाए। जवाब में मुंबई की टीम ने ये लक्ष्य 7 विकेट रहते हासिल कर लिया।

इसी वांग ने मुंबई को दिलाई शानदार शुरुआत, राधा यादव और शिखा पांडे के बीच हुई अहम साझेदारी

पहले बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली की शुरुआत बेहद खराब रही। पिछले मैच में हैट्रिक लेने वाली इसी वांग ने पहले शेफाली वर्मा को चलता किया। इस विकेट को लेकर काफी हलचल हुई। काफी लोगों का मानना रहा कि ये एक नो बॉल थी। पर थर्ड अंपायर द्वारा इस गेंद को नो बॉल नहीं दिया गया। इसी ओवर में एक और फुल टॉस में वांग को एलिस कैप्सी का विकेट मिला।

जिसके बाद लैनिंग और जेमिमा रॉड्रिक्स ने कुछ रन जोड़े पर एक बार फिर फुल टॉस में जेमिमा का विकेट मिला। वह 9 रन बना कर आउट हुई। इसके बाद दिल्ली की टीम ने मरीजियम कैप और मेग लेनिंग के बीच एक साझेदारी देखी। पर कैप के आउट होते ही दिल्ली की पारी बिखर सी गई। इस दबाव के चलते मेग भी रन आउट हुई।

ये भी पढ़ें-WTC फाइनल में ऐसी हो सकती है 15 सदस्यीय टीम इंडिया, सरफराज खान को मिल सकता है मौका, देखें लिस्ट

टीम ने मात्र 79 रन पर 9 विकेट गवां दिए। पर शायद राधा यादव को आखिर में बल्लेबाजी करने का मेग का फैसला टीम के काम आया। आखिरी विकेट के लिए राधा यादव (27*) और शिखा पांडे (27*) के बीच 52* रन की साझेदारी ने दिल्ली का स्कोर 131 रन तक पहुंचाया।

मुंबई की शुरुआत रही खराब, पर हरमनप्रीत और नेट सेवियर के बीच अहम साझेदारी ने टीम को दिलाई जीत

इस लक्ष्य का पीछा करने आई मुंबई की शुरुआत भी कुछ खास नहीं रही। टीम ने पावरप्ले में यस्तिका भाटिया और मैथ्यूज का विकेट गवां दिया।

23 रन में मुंबई ने दो अहम विकेट गवां दिए। जिसके बाद लगा कि दिल्ली के टीम ने मैच में अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। पर इसके बाद हरमनप्रीत और नेट सेवियर ब्रंट ने हल्की गति से साझेदारी करनी शुरू की। दोनों ने चाहे रन कम बनाए पर विकेट नहीं जाने दिया।

हरमनप्रीत का ये मास्टरस्ट्रोक टीम के काम आया क्योंकि टीम को जीतने के लिए ज्यादा रन की जरूरत नहीं थी। ऐसे में बस मुंबई को विकेट बचाते हुए खेलना था। हरमन और नेट के बीच 72 रन की अहम साझेदारी हुई। जिसके बाद हरमनप्रीत (37) रन आउट हुई। पर वह टीम को एक अच्छी स्तिथि पर छोड़ के गई।

अंत में नेट और अमेलिया केर ने अपनी टीम को जीत तक पहुंचाया। नेट ने इस दौरान अर्धशतकीय पारी खेली। हरमन और नेट की साझेदारी इस मैच का टर्निंग प्वाइंट रही।

ये भी पढ़ें- 55 छक्के ठोक चुका स्टार प्लेयर IPL 2023 से हुआ बाहर तो प्रीति जिंटा की टीम ने चला अब ये तगड़ा दांव