Eid Moon Sighting 2021: सऊदी अरब में नहीं दिखा शव्वाल का चांद,अब इस दिन मनाई जाएगी पूरी दुनिया में ईद का त्यौहार

Eid Ul Fitr 2021: सऊदी अरब में आज, 11 मई शव्वाल के चांद का दीदार नहीं हुआ है। इसलिए अब 13 मई को ईद-उल-फित्र का त्योहार मनाया जाएगा।

रमजान का पाक महीना खत्म होने को है। सऊदी अरब समेत खाड़ी देशों में आज, मंगलवार रात को चांद का दीदार करने की कोशिश की गई। इसके लिए बड़ी-बड़ी दूरबीन भी लाई गई, लेकिन देर रात तक भी चांद का दीदार नहीं हो सका। ऐसे में अब यह पूरी तरह से साफ हो गया है कि 12 मई यानि बुधवार को चांद रात के बाद अब 13 मई, गुरुवार के दिन खाड़ी देशों में ईद का त्योहार मनाया जाएगा।

जानकारी के लिए आपको बता दें, ईद का त्यौहार रमजान के महीने में (29 या 30) रोज़े रखने के बाद मनाया जाता है। इस त्यौहार का जश्न पूरे 3 दिनों तक चलता है। लोग नए कपड़े पहनते हैं और अल्लाह का शुक्रिया अदा करते हैं। ईद के दिन की शुरुआत ईद की नमाज के साथ होती है। इसके बाद सब एक दूसरे को गले मिलकर ईद की मुबारकबाद देते हैं।

हालांकि बीते साल की तरह इस साल भी ईद का त्यौहार कोरोना महामारी के बीच पड़ रहा है। ऐसे में लोगों को थोड़ा सतर्क रहने की हिदायत दी गई है। इसमें लोगों को मास्क पहनने से लेकर सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की सलाह दी गई है।

वहीं भारत में शाही इमामों ने भी इस बार लोगों से ईद की नमाज घरों में ही अदा करने की अपील की है। इसके साथ ही भारत के ज्यादातर राज्यों में लगे लॅाकडाउन को देखते हुए घरों में ही परिवार के संग सादगी से ईद का त्योहार मनाना होगा।

इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार, रमजान के बाद शव्वाल की पहली तारीख को ईद-उल-फितर मनाई जाती है। ईद के दिन सुबह की नमाज पढ़ इसकी शुरूआत हो जाती है।

ईद के दिन बनते हैं शाही पकवान

ईद के दिन सभी मुसलमान लोगों के घरों में शाही पकवान बनते हैं। भारत में ईद पर सभी मुस्लिम घरों में सेवइयां बनाई जाती हैं। सेवइयां ईद की सबसे अहम और स्पेशल डिश होती है और इसके बिना यह त्योहार अधूरा होता है। इसके अलावा भी अलग-अलग घरों में अलग-अलग पकवान बनाए जाते हैं।

5 thoughts on “Eid Moon Sighting 2021: सऊदी अरब में नहीं दिखा शव्वाल का चांद,अब इस दिन मनाई जाएगी पूरी दुनिया में ईद का त्यौहार”

  1. side effects for clomid The two most commonly used alternative strategies of endocrine treatment in postmenopausal women with hormone receptor positive breast cancers are either the interference with estrogen signaling by a selective estrogen receptor modulator, such as tamoxifen, or the inhibition of endogenous estrogen production via an aromatase inhibitor AI

Leave a Comment