ENG vs NZ : टेस्ट डेब्यू में रिकॉर्ड शतक से चूके इंग्लैंड के जेमी ओवरटन, न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में करायी टीम की वापसी

68
ENG vs NZ

ENG vs NZ : शतक लगाना और अपनी पारी से अपनी टीम को जीत की राह तक पहुंचाना हर क्रिकेटर का सपना होता है और अगर ये किसी खिलाड़ी के डेब्यू मैच में हो तो क्या ही कहने।

कभी-कभी ऐसा होता है कि कई क्रिकेटर्स अपनी टीम को एक बड़े स्कोर तक तो ले जाते हैं, लेकिन अपने शतक से महज कुछ रन दूरी पर ही आउट हो जाते हैं। कुछ ऐसा ही इंग्लेंड के खिलाड़ी जेमी ओवरटन के साथ हुआ, जब वे न्यूजीलैंड के खिलाफ लीड्स में खेले जा रहे मैच में बल्लेबाजी कर रहे थे।

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच लीड्स में खेले जा रहे तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच में जेमी ओवरटन रिकॉर्ड शतक लगाने से चूक गए। ओवरटन 97 रन के निजी स्कोर पर आउट होकर पवेलियन लौट गए।

अगर वह 3 रन और बनाने में सफल रहते तो टेस्ट डेब्यु पर शतक लगाने वाले इंग्लैंड के 21वें और दुनिया के 113वें खिलाड़ी बन जाते। उनका ये सपना तोड़ते हुए ट्रेंट बोल्ट ने जेमी ओवरटन को डैरिल मिचेल के हाथों आसानी से कैच आउट करवा दिया।। अपनी पारी में जेमी ने उन्होंने 136 गेंदों का सामना करते हुए 13 चौके व दो छक्के भी लगाए।

ENG vs NZ

ENG vs NZ : ओवरटन एक फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर हैं

बता दें कि, जेमी ओवरटन एक फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर हैं। ओवरटन के आउट होने के बाद मैदान पर मौजूद सभी दर्शकों और इंग्लैंड के ड्रेसिंग रूम में मौजूद सभी खिलाड़ियों ने उनके लिए तालियां भी बजाईं। क्रीज पर मौजूद साथी खिलाड़ी जॉनी बेयरेस्टो ने भी उनकी हौसलाअफजाई की।

ओवरटन भले ही शतक ना बना सके हों, लेकिन अपनी साहसी पारी से उन्होंने इंग्लैंड को मैच में वापसी की राह दिखाई। उनकी यह पारी तब आई, जब टीम को इसकी सबसे ज्यादा जरूरत थी। एक समय इंग्लैंड ने 55 के स्कोर पर 6 विकेट गंवा दिए थे, लेकिन इसके बाद जेमी ओवरटन ने जॉनी बेयरस्टो के साथ मिलकर न सिर्फ पारी को संभाला, बल्कि इंग्लैंड को वापस मुकाबले में ला खड़ा किया। दोनों ने सातवें विकेट के लिए 274 गेंदों पर 241 रन जोड़े।

बता दें कि, न्यूजीलैंड की टीम ने पहली पारी में 329 रन बनाए थे। टीम के लिए डैरिल मिचेल ने अपनी शानदार फॉर्म को बरकरार रखते हुए सीरीज में लगातार तीसरा शतक जड़ा और 109 रन बनाकर पवेलियन लौट गये। जेमी 6 फीट 5 ईंच के हैं। बता दें कि, ओवरटन को अपना पहला टेस्ट मैच खेलने के लिए पूरे 10 साल का इंतजार करना पड़ा। दरअसल, 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज सीरीज के लिए ओवरटन को भी इंग्लैंड की टीम का हिस्सा बनाया गया था, हालांकि उस समय उनको एक भी मुकाबला खेलने का मौका नहीं मिल सका। इसके बाद चोट के चलते कुछ समय तक वह खेल से दूर रहे। इस बीच उनके भाई क्रेग ओवरटन ने इंग्लैंड के लिए अपना इंटरनेशनल डेब्यू किया।

न्यूजीलैंड के खिलाफ मौजूदा सीरीज में जेमी ओवरटन को जेम्स एंडरसन के चोटिल होने के बाद प्लेइंग-11 में खेलने का अवसर मिला। न्यूजीलैंड के खिलाफ पहली पारी में उन्होंने 16 ओवर की गेंदबाजी में 41 रन देकर एक विकेट अपने नाम किया। उन्होंने डेवोन कॉनवे के रूप में अपनी पहली टेस्ट विकेट हासिल की। उनके हाईआर्म एक्शन से गेंद गुड लेंथ पर गिर कर छाती की ऊंचाई तक आती है। इसे खेलना आसान नहीं होता। उन्होंने अपनी गति से चकमा देकर डेवोन कॉनवे को क्लीन बोल्ड किया।