Kapil Dev On Kohli : विराट के खराब फॉर्म पर बोले कपिल देव- “अगर आप अश्विन को टीम से बाहर कर सकते हैं, तो विराट को क्यों नहीं?”

129
Kapil Dev On Kohli

Kapil Dev On Kohli : पूर्व भारतीय कप्तान विराट कोहली लंबे समय से फॉर्म से बाहर चल रहे हें। पिछले तीन सालों से उनके बल्ले से एक भी शतक नहीं निकली है। पिछले एजबेस्टन टेस्ट में भी वे कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाये। इस वजह से हर ओर उनकी आलोचना हो रही है। इस बीच दिग्गज क्रिकेटर कपिल देव का भी इस संबंध में एक बयान सामना आया है।

भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव का मानना है कि अगर रविचंद्रन अश्विन जैसे प्रतिभाशाली गेंदबाज को टेस्ट टीम की अंतिम एकादश से बाहर किया जा सकता है, तो लंबे समय से फॉर्म से बाहर चल रहे विराट कोहली को भी टी20 टीम से बाहर करना कोई बड़ी बात नहीं होनी चाहिये। भारत को पहली बार विश्व चैंपियन बनाने वाले कप्तान कपिल देव का मानना है कि अगर भारतीय टीम प्रबंधन शानदार लय में चल रहे खिलाड़ियों को अपने कौशल के प्रदर्शन के लिए पर्याप्त अवसर नहीं देगा तो यह उनके साथ नाइंसाफी होगी।

Kapil Dev On Kohli

Kapil Dev On Kohli : विश्व का नंबर एक खिलाड़ी भी बाहर बैठ सकता है

मीडिया से बात करते हुए कपिल देव ने कहा, ‘अगर आप टेस्ट क्रिकेट के दूसरे सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज अश्विन को टीम से बाहर बैठा सकते हैं, तो विश्व का नंबर एक खिलाड़ी भी बाहर बैठ सकता है। मैं चाहता हूं कि कोहली रन बनाए, लेकिन इस समय विराट कोहली उस तरह से नहीं खेल रहे हैं, जिनको हम जानते हैं। उन्होंने अपने प्रदर्शन के दम पर अपना नाम बनाया है। अगर वह प्रदर्शन नहीं करेंगे तो नए खिलाड़ियों को आप बाहर नहीं रख सकते हैं।’

कपिल देव ने आगे कहा कि वह चाहते हैं कि कोहली और युवा खिलाड़ियों में टीम में जगह के लिए अच्छी प्रतिस्पर्धा हो। उन्होंने कहा , ‘मैं चाहता हूं कि नए खिलाड़ी ऐसा प्रदर्शन करें कि विराट के लिए चीजें मुश्किल हों और वह इस तरह से वापसी करें कि नए खिलाड़ियों को अपना स्तर और ऊंचा करना पड़े। मैं चाहता हूं कि दोनों में अच्छी प्रतिस्पर्धा हो।’

Kapil Dev On Kohli : बड़े खिलाड़ी प्रदर्शन नहीं कर पा रहे

कपिल देव ने कहा, ‘ विराट को इस तरह से सोचना चाहिए कि वह एक समय टीम के शीर्ष बल्लेबाज थे और इस टीम में भी उन्हें ऐसा ही करना है। यह टीम के लिए समस्या है।’ कपिल ने कहा कि वेस्टइंडीज दौरे से विराट का ‘विश्राम’ लेना उनके लिए टीम से ‘बाहर’ होना माना जाना चाहिए। उन्होंने कहा , ‘आप चाहे तो इसे विश्राम कह लें या फिर टीम से बाहर होना कह सकते हैं। इस पर हर किसी का अपना विचार हो सकता है। अगर चयनकर्ताओं ने उनका चयन नहीं किया है तो इसका कारण यह हो सकता है कि बड़े खिलाड़ी प्रदर्शन नहीं कर पा रहे।’

कपिल देव ने कहा कि अंतिम एकादश का चयन मौजूदा फॉर्म के आधार पर किया जाना चाहिए न कि पहले के प्रदर्शन के आधार पर। उन्होंने कहा, ‘जब आपके पास बहुत सारे विकल्प हों, तो लय में चल रहे खिलाड़ियों को मौका दें। आप केवल प्रतिष्ठा के आधार पर नहीं जा सकते। आपको मौजूदा फॉर्म के आधार पर चयन करना होगा। आप एक स्थापित खिलाड़ी हो सकते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि लगातार पांच मैचों में खराब प्रदर्शन के बाद भी आपको मौके दिए जाएंगे।’