वीरेंद्र सहवाग ने बताया, कैसे सौरभ गांगुली ने की धोनी को महान खिलाड़ी बनने में मदद

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि सौरव गांगुली ने एमएस धोनी के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में अपने बल्लेबाजी स्थान का बलिदान दिया था।

गांगुली के बलिदान से ही धोनी बने महान

उनका मानना है इस बलिदान के कारण ही धोनी (विकेटकीपर) को एक महान बल्लेबाज बनने में मदद मिली। एक टीवी इंटरव्यू में सहवाग ने कहा कि अगर गांगुली ने धोनी को उनकी जगह बल्लेबाजी करने की इजाजत नहीं दी होती तो वह शायद इतने महान खिलाड़ी नहीं बनते।

बल्लेबाजी क्रम में हो रहा था प्रयोग

“उस समय टीम बल्लेबाजी क्रम के साथ प्रयोग कर रही थी। तय किया गया कि अगर हमें अच्छी ओपनिंग पार्टनरशिप मिलती है तो सौरव गांगुली नंबर 3 पर आएंगे लेकिन अगर हमारा ओपनिंग स्टैंड खराब रहा तो हम स्कोरिंग रेट में तेजी लाने के लिए इरफान पठान या धोनी जैसे पिंच हिटर्स को भेजेंगे।”

गांगुली नए खिलाड़ियों को मौका देने पर रखते थे विश्वास

सहवाग ने कहा कि धोनी को इस क्रम में बढ़ावा देना गांगुली का फैसला था, ऐसा फैसला बहुत कम कप्तान ले सकते थे। उन्होंने कहा कि गांगुली नए खिलाड़ियों को मौका देने में विश्वास रखते थे।

“गांगुली ने उस समय धोनी को तीन या चार मैचों के लिए नंबर 3 पर मौका देने का फैसला किया। बहुत कम कप्तान हैं जो पहले वीरेंद्र सहवाग के लिए अपना बल्लेबाजी स्थान और फिर धोनी के लिए नंबर 3 का अपना स्थान छोड़ देते हैं। अगर दादा (गांगुली) ने ऐसा नहीं किया होता तो धोनी शायद इतने महान खिलाड़ी नहीं बनते। गांगुली हमेशा नए खिलाड़ियों को मौका देने में विश्वास रखते थे।”

राहुल द्रविड़ की कप्तानी में बने फिनिशर

जब गांगुली को कप्तान के रूप में हटा दिया गया, तो राहुल द्रविड़ ने पदभार संभाला। सहवाग ने माना कि द्रविड़ ने धोनी को एक महान फिनिशर बनाने में समान रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

“राहुल द्रविड़ ने अपनी कप्तानी में धोनी को एक फिनिशर की भूमिका देना का फैसला किया। माही एक दो बार खराब शॉट खेल आउट भी हुए और यहां तक एक बार द्रविड़ ने उन्हें फटकार भी लगाई। उसके बाद, धोनी ने अपना दृष्टिकोण पूरी तरह से बदल दिया और एक बहुत अच्छे फिनिशर बन गए। युवराज सिंह के साथ उनकी जोड़ी अतुलनीय बन गई।”