IND vs ENG: 5 गलतियां जो एजबेस्टन टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया के हार की बनी वजह, आखिरी सबसे अहम

1111

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए एजबेस्टन टेस्ट मुकाबले में मेजबान टीम ने टीम इंडिया को 7 विकेट से करारी शिकस्त दी है। मुकाबले के अंतिम दिन इंग्लैंड की टीम ने जीत के लिए शेष बचे 119 रन बनाकर सीरीज 2-2 से ड्रा कराई। एजबेस्टन टेस्ट के 5 दिनों में से पहले 3 दिन भारतीय टीम का पलड़ा भारी रहा था।

हालांकि इसके बाद इंग्लैंड की टीम ने भी मुकाबले पर अपना शिकंजा कसना शुरू किया। मुकाबले की चौथी पारी में जो रूट (Joe root) और जॉनी बेयरस्टो (Johny Beyresto) ने शानदार शतक जड़े। जिनके दम पर इंग्लैंड की टीम ने भारत द्वारा दिए गए 378 रनों के विशाल लक्ष्य को महज तीन विकेट खोकर ही हासिल कर लिया।

एजबेस्टन टेस्ट हारने के पीछे के 5 सबसे बड़े कारण

1-इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए रीशेड्यूल टेस्ट मुकाबले में टीम इंडिया का शीर्ष क्रम पूरी तरह नाकाम रहा। पहली इनिंग में चेतेश्वर पुजारा, शुभ्मन गिल, हनुमा विहारी, विराट कोहली और श्रेयस अय्यर बुरी तरह नाकाम रहे।

इन खिलाड़ियों के कंधों पर टीम के लिए बड़ा स्कोर करने की जिम्मेदारी थी.लेकिन यह सभी फ्लॉप साबित हुए। दूसरी पारी में भी विराट, हनुमा विहारी और श्रेयस नहीं चले। जबकि ऋषभ पंत और चेतेश्वर पुजारा ने हाफ सेंचुरी लगाई थी। ऐसे में भारतीय टीम अपनी दूसरी पारी में केवल 245 रनों पर सिमट गई थी।

2-टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह कप्तान रोहित शर्मा की गैरमौजूदगी में पहली बार किसी इंटरनेशनल टीम की कमान संभाल रहे थे। इसके पहले उन्होंने निचले स्तर पर कभी भी किसी टीम की कमान नहीं संभाली थी। ऐसे में इस खिलाड़ी के ऊपर टीम के लिए बेहतर करने प्रेशर था।

हालांकि मुकाबले के दौरान जसप्रीत बुमराह कप्तानी का दायित्व निभाते नजर आए थे। पहली पारी में शानदार प्रदर्शन करने वाले जसप्रीत बुमराह ने दूसरी पारी में भी इंग्लैंड के 2 विकेट हासिल किए थे। लेकिन दूसरे छोर से उन्हें किसी अन्य गेंदबाज का साथ नहीं मिला। ऐसे में जो रूट और जॉनी बेयरस्टो ने खूब रन जोड़े।

3- इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन टेस्ट में मिली हार के पीछे भारतीय टीम की खराब फील्डिंग को भी जिम्मेदार माना जा सकता है। टीम इंडिया के कई खिलाड़ियों ने फील्डिंग करते हुए कई कैच टपका ये थे। चौथी पारी में 114 रन नाबाद बनाने वाले जॉनी बेयरस्टो को हनुमा विहारी और ऋषभ पंत ने जीवन दान दिए थे। हनुमा विहारी ने जॉनी बेयरस्टो का उस दौरान कैच छोड़ा था जब वह महज 14 रन बनाकर खेल रहे थे। दूसरा कैच ऋषभ पंत ने छोड़ा था उस दौरान जॉनी बेयरस्टो 39 रन बनाकर खेल रहे थे।

4-मुकाबले के चौथे दिन स्टंप्स तक जॉनी बेरेस्टो और जो रूट के बीच 150 रनों की शानदार पार्ट नर शिप हो चुकी थी। यहाँ से जीत के लिए इंग्लैंड की टीम को महज 119 रनों की दरकार थी। जो उन्होंने पांचवे दिन आराम से बना लिए। पांचवे दिन भारतीय गेंदबाज विकेट के लिए तरसते रहे। जो रूट और जॉनी बेरेस्टो के बीच कुल 269 रनों की साझेदारी हुई थी।

5- बात करें अगर भारत की हार की अंतिम वजह की तो भारतीय बल्लेंबाज़ों के शॉट सेलेक्श पर भी सवाल उठना लाज़िमी है। टीम इंडिया के भरोसेमंद बल्लेबाज विराट कोहली उछाल भरी गेंद पर विकेट गंवाकर पवेलियन लौट गए। दूसरी तरफ Sreyash Iyer भी बॉउंस गेंद पर विकेट गँवा बैठे।