भारत-चीन सीमा पर श’हीद कर्नल संतोष बाबू की मां बोलीं- ‘गर्व है देश के लिए गई जा’न, लेकिन इस बात का है दुख’

827

हाल ही में चीन और भारत सेना को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई थी। खबर थी कि गालवन घाटी में चीनी और भारत के सैनिकों के बीच हि’संक झ’ड़प हुई थी और इस झ’ड़प में कई सैनिकों के साथ कर्नल संतोष बाबू श’हीद भी हो गये हैं। वहीं अब कर्नल संतोष बाबू के शहीद होने के बाद उनकी माँ का एक बड़ा बयान आया है।

गालवन घाटी में कर्नल संतोष बाबू के शहीद होने पर उनकी माँ ने कहा कि उन्हें अपने बेटे की श’हादत पर गर्व है, लेकिन दुःख सिर्फ इस बात का है कि उनका इकलौता बेटा अब कभी वापस नहीं आएगा।  ‘मुझे अपने बेटे पर गर्व है जिसने मातृभूमि के लिए बलिदान दिया लेकिन एक मां के रूप में, मैं आज दु’खी हूं’। वही उन्होंने आगे कहा कि वह मेरा इकलौता बेटा था। मुझे दोपहर में इस बारे में पता चला जबकि मेरी बहू को सुबह ही खबर मिल गई थी।

कर्नल संतोष 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर थे और डेढ़ साल से सीमा पर तैनात थे। कर्नल संतोष गालवन घाटी (पूर्वी लद्दाख) में एलएसी पर चीनी सैनिकों के साथ हिं’सक संघर्ष के दौरान शहीद हो गए हैं। वहीं उनके श’हीद होने क बाद वो अपने पीछे अपनी पत्नी संतोषी, एक 9 साल की बेटी अभिनव और एक 4 साल का बेटा अनिरुद्ध को छोड़ गए हैं।

वहीं इस वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीनी सैनिकों के साथ इस हिं’सक झ’ड़प को लेकर विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि वरिष्ठ कमांडरों ने 6 जून, 2020 को एक बैठक की और इस तरह के डी-एस्केलेशन के लिए एक प्रक्रिया पर सहमति व्यक्त की। इसके बाद, ग्राउंड कमांडरों द्वारा मामला सुलझाने के लिए कई बैठकें की गईं। हमें उम्मीद थी कि विवाद आसानी से सुलझ जाएगा, लेकिन चीन ने ऐसा नहीं किया।

वहीं विदेश मंत्रालय ने इस बयान में यह भी कहा गया है कि 15 जून  की देर शाम और रात को चीन की ओर से यथास्थिति को बदलने के प्रयास के परिणामस्वरूप यह हिं’सक झड़प हुई है

आपको बता दें,  सोमवार को गालवन घाटी  पर चीन और भारत की सेनाओं के बीच हिं’सक झड़प हुई है और इस झड़प में भारतीय सेना के अफसर और दो जवान शहीद हो गए हैं। भारतीय सेना की ओर से जारी किए गए आधिकारिक बयान में कहा गया है, ये घटना तब हुई जब सोमवार रात को गलवान घाटी के पास दोनों देशों के बीच बातचीत हुई और सबकुछ सामान्य तरीके से चल रहा था। वहीं ‘गलवान घाटी में सोमवार की रात को डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया के दौरान भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई और इस हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक अफसर और दो जवान शहीद हो गए हैं।