IND vs SCO: 3 गेंदों पर टीम इंडिया को मिले 3 विकेट मगर फिर भी नहीं हुई हैट्रिक, जानिए क्यों?

308

आईसीसी T-20 वर्ल्ड कप में दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में खेले जा रहे हैं भारत स्कॉटलैंड मुकाबले में कई वाकये देखने को मिले। पहला वाकया टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टूर्नामेंट में पहली बार टॉस अपने नाम किया। टीम इंडिया के गेंदबाजों ने इस मुकाबले में शानदार गेंदबाजी करते हुए स्कॉटलैंड की टीम को महज 85 रनों पर ढेर कर दिया।

उधर टीम इंडिया ने स्कॉटलैंड के तीन बल्लेबाजों को 3 गेंदों के अंदर पवेलियन वापस भेज दिया मगर यह हैट्रिक नहीं मानी गई मगर क्यों?

3 गेंदे 3 विकेट लेकिन हैट्रिक नही हुई?

दरअसल बात यह थी कि स्कॉटलैंड की इनिंग का 17 वां ओवर प्रगति पर था और गेंदबाजी का जिम्मा मोहम्मद शमी संभाल रहे थे। उनके इस ओवर की पहली बॉल पर सी मैक्लीऑड बोल्ड हो गए। मोहम्मद शमी के इस ओवर की दूसरी गेंद पर बैटिंग के लिए क्रीज पर आए नए बल्लेबाज सुफियान शरीफ गेंद को टच करके रन लेने की कोशिश करने लगे तभी इशान किशन ने उन्हें आउट कर दिया।

इसके बाद अगली गेंद पर मोहम्मद शमी ने स्कॉटलैंड टीम का एक और विकेट झटक लिया। तीसरी बॉल पर ए. एवन्स को बोल्ड करके पवेलियन की राह दिखा दी। ऐसे में इस ओवर की 3 बॉल पर कुल 3 विकेट गिरे लेकिन हैट्रिक नहीं मानी गई क्योंकि ईशान किशन ने एक बल्लेबाज को रन आउट किया था।

इंडिया के बॉलर्स ने दिखाया दम

आपको बता दें कि टीम इंडिया के गेंदबाजों ने स्कॉटलैंड के खिलाफ खेले गए इस मुकाबले में शानदार गेंदबाजी की है। इन बालों के बलबूते ही टीम इंडिया स्कॉटलैंड को सिर्फ 8 5 रनों के योग पर आउट करने में कामयाब हुई।

ये भी पढ़े- जब बीच मैदान पर My Name is Lakhan पर अचानक डांस करने लगे विराट कोहली, देखिए मजेदार वीडियो

टीम इंडिया के गेंदबाज जसप्रीत बुमराह रविंद्र जडेजा आर अश्विन और मोहम्मद शमी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। रविंद्र जडेजा ने 3 विकेट मोहम्मद शमी ने 3 विकेट और जसप्रीत बुमराह ने 2 विकेट लिए। चार और गेंदबाजी करते हुए आर अश्विन ने भी एक विकेट लिया।

टीम इंडिया को अंतिम-चार में प्रवेश करना है तो उसे अपने आगामी मैच में नामीबिया को भी बड़े अंतर से पीटना होगा। इसके अलावा अफगानिस्तान की टीम अगर न्यूजीलैंड को हराने में कामयाब हो जाती है। तभी भारत अंतिम-चार में पहुंच सकता है। अगर आप अफगानिस्तान की टीम न्यूजीलैंड को हराने में कामयाब हो जाती है तो टीम इंडिया के लिए यह बड़ी मदद के तौर पर देखा जाएगा।